नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

13 August, 2021

धीरे धीरे चलती रही !!


धीरे धीरे चलती रही ,

वक़्त के साथ सिमटती रही यादें।

किसी अमुआ की फुनगी पर 

 बुलबुल की तरह ,

किसी नीम की टहनी पर 

 चुलबुल की तरह ,

चम्पई  सुरमई गीतों में 

महकती रही यादें

मेरे साथ साथ यूँ ही 

चलती रही यादें !!


कभी बादलों के गाँव में 

चंदा की तरह ,

कभी आसमान की छाँव में 

सूरज की तरह ,

कभी धरती पर चमेली सी 

उड़ती ,ठहरती महकती रही यादें 


मेरे साथ साथ यूँ ही 

मचलती रही यादें !!


अनुपमा त्रिपाठी 

"सुकृति "


13 comments:

  1. जी नमस्ते ,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा आज शनिवार (१४-०८-२०२१) को
    "जो करते कल्याण को, उनका होता मान" चर्चा अंक-४१५६ (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')
    पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है।
    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. मेरी कृति को चर्चा मंच का पटल देने हेतु बहुत बहुत धन्यवाद अनीता जी एवं शास्त्रीजी |

      Delete
  2. बहुत सुंदर !
    यादें और प्रकृति से सजे कोमल बिंब रचना को उत्कृष्ट बना गई।
    अभिनव सृजन अनुपमा जी।

    ReplyDelete
  3. अपना पथ धरती हैं यादें,
    बड़ा विवश करती हैं यादें।

    सुन्दरता से उभारा है यादों का उतरना।

    ReplyDelete
  4. वाह...
    प्रिय अनुपमा जी सुंंदर भावपूर्ण एहसास
    मेरी चंद पंक्तियाँ-

    सफर तो चलेगा समेट कर मुट्ठी भर यादें
    कुछ तो सौगात मिला
    ऐ जिंदगी चंद अनछुए एहसास के लिए
    दिल से शुक्रिया है तुम्हारा।

    सादर

    ReplyDelete
  5. बहुत अच्छी कविता।सादर अभिवादन

    ReplyDelete
  6. ज़िन्दगी यादों का पिटारा ही तो है अनुपमा जी। अच्छी कविता हेतु अभिनंदन आपका।

    ReplyDelete
  7. बहुत ही सुंदर सृजन! सच में यादें कुछ ऐसी ही होती है!

    ReplyDelete
  8. कभी कभी सोचता हूँ कि गर यादें तो क्या होता

    ReplyDelete
  9. बेहतरीन सृजन

    ReplyDelete
  10. बहुत सुंदर कविता अनुपमा त्रिपाठी "सुकृति " जी 🌹🙏🌹

    ReplyDelete
  11. प्रकृति की सुंदर उपमा से सज्जित यादें.. यादों का अनोखा अहसास ।

    ReplyDelete
  12. सुंदर सृजन

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!