नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

12 June, 2011

तलाश ....!!

दंभ अकारण घेरे था .....
श्रद्धा से दूर हुई  मैं ..
ढूँढ रही थी 
तुम में खुद को ...
भटक रही थी 
निर्जन वन में .... 
मिला न मुझको वो सुर मेरा ...!!
ढूँढ -ढूँढ जब 
क्षीण हुआ मन ..
जीर्ण हुआ तन ..

त्याग दिया 
बाल-हठ अपना......
अब मैं ..
खुद में  ढूँढ रही हूँ ...!!
फिर भी  तुमको ढूँढ रही हूँ ...!! 
प्रभु ..मैं तुमको ढूँढ रही हूँ ...!!!!!

35 comments:

  1. वो यहीं कहीं हैं ...हमारे आस-पास न जाने किस रूप में.

    बेहतरीन लिखा है आपने.


    सादर

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर भाव…..….धन्यवाद

    ReplyDelete
  3. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (13-6-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  4. कई बार से,
    जब भी आये याद प्रभु,
    मैं पुऩः ढूढ़ने लगा उन्हे।

    ReplyDelete
  5. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति ! उस परम की तलाश जारी है....शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  6. आपका स्वागत है "नयी पुरानी हलचल" पर...यहाँ आपके पोस्ट की है हलचल...जानिये आपका कौन सा पुराना या नया पोस्ट कल होगा यहाँ...........
    नयी-पुरानी हलचल

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर भावाभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर भावपूर्ण रचना..

    ReplyDelete
  9. अब मैं ..
    खुद में ढूँढ रही हूँ ...!!
    फिर भी तुमको ढूँढ रही हूँ ...!!
    प्रभु ..मैं तुमको ढूँढ रही हूँ ... ab dhoondhna kya , jab khud me dekh liya to samjho wah mil gaya

    ReplyDelete
  10. प्रभु तो हमारे मन है

    सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  11. अद्भुत सुन्दर रचना! आपकी लेखनी की जितनी भी तारीफ़ की जाए कम है!

    ReplyDelete
  12. कितनी सुन्दर रचना है या कहें प्रार्थना है,या मन की भटकन का समापन है कि एक अज्ञात दंभ के हृदय में पवेश पा जाने के कारण (अब वह दंभ किसी कारण से आया हो )उसने एक तो श्रध्दा कम करदी ,साथ ही प्रभू की तलाश में वाधक बना । शायद जंगल में मिलेगा शायद किसी संत के पास मिलेगा यह करने से मिलेगा वह करने से मिलेगा ,इसी चक्कर में जीवन की सांघ्य बेला आ पहुंची और तन और मन दौनों क्षीण हो गये तब फिर अहसास हुआ ""मोको कहां ढूंढे रे बन्दे मै तो तेरे पास मे""। लेकिन मृग मरीचिका ने पहले यह अहसास ही नहीं होने दिया । कितनी अच्छी बात कहदी इस छोटी सी कविता में

    ReplyDelete
  13. लीगल सैल से मिले वकील की मैंने अपनी शिकायत उच्चस्तर के अधिकारीयों के पास भेज तो दी हैं. अब बस देखना हैं कि-वो खुद कितने बड़े ईमानदार है और अब मेरी शिकायत उनकी ईमानदारी पर ही एक प्रश्नचिन्ह है

    मैंने दिल्ली पुलिस के कमिश्नर श्री बी.के. गुप्ता जी को एक पत्र कल ही लिखकर भेजा है कि-दोषी को सजा हो और निर्दोष शोषित न हो. दिल्ली पुलिस विभाग में फैली अव्यवस्था मैं सुधार करें

    कदम-कदम पर भ्रष्टाचार ने अब मेरी जीने की इच्छा खत्म कर दी है.. माननीय राष्ट्रपति जी मुझे इच्छा मृत्यु प्रदान करके कृतार्थ करें मैंने जो भी कदम उठाया है. वो सब मज़बूरी मैं लिया गया निर्णय है. हो सकता कुछ लोगों को यह पसंद न आये लेकिन जिस पर बीत रही होती हैं उसको ही पता होता है कि किस पीड़ा से गुजर रहा है.

    मेरी पत्नी और सुसराल वालों ने महिलाओं के हितों के लिए बनाये कानूनों का दुरपयोग करते हुए मेरे ऊपर फर्जी केस दर्ज करवा दिए..मैंने पत्नी की जो मानसिक यातनाएं भुगती हैं थोड़ी बहुत पूंजी अपने कार्यों के माध्यम जमा की थी.सभी कार्य बंद होने के, बिमारियों की दवाइयों में और केसों की भागदौड़ में खर्च होने के कारण आज स्थिति यह है कि-पत्रकार हूँ इसलिए भीख भी नहीं मांग सकता हूँ और अपना ज़मीर व ईमान बेच नहीं सकता हूँ.

    ReplyDelete
  14. प्रभावित करती पावन अभिव्यक्ति......

    ReplyDelete
  15. ब्रिज मोहन श्रीवास्तव जी नमस्कार ,
    बड़ा हर्ष हुआ ये देख कर की आपने इतने सुचारू रूप से मेरी कविता के अर्थ का वर्णन किया |आभार आपका |हमारी नकारात्मक सोच ही हमें प्रभु से दूर करती है ....प्रभु को जब स्वयं में ढूंढें तो अपनी उस नकारात्मकता पर विजय पायें और निरंतर सकारात्मक होते चले जाएँ ...प्रभु के समीप पंहुंचने के लिए ....

    ReplyDelete
  16. har shabd khud hi prabhu ko awaaz de raha hai....ishwar to sab ke hriday mein hai par,hum manushyon ke hridaya mein itni sachaayi kahan ki unhe dekh sake:)

    ReplyDelete
  17. बहुत सुन्दर भावाभिव्यक्ति....

    ReplyDelete
  18. बहुत सुंदर भाव ... हम दंभ की वजह से जीवन की बहुत सी उप्लाब्थियाँ खो देते हैं

    ReplyDelete
  19. बहुत सुंदर भाव ... हम दंभ की वजह से जीवन की बहुत सी उप्लाब्थियाँ खो देते हैं

    ReplyDelete
  20. सुन्दर लिखा है..पवित्र भाव ..आपको ढेरों बधाई व शुभकामना...

    ReplyDelete
  21. अब मैं ..
    खुद में ढूँढ रही हूँ ...!!
    फिर भी तुमको ढूँढ रही हूँ ...!!
    प्रभु ..मैं तुमको ढूँढ रही हूँ

    बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  22. कस्तूरी कुंडल बसे मृग ढूंढे बन माही" . श्रद्धा में ही इश्वर विराजमान है .

    ReplyDelete
  23. प्रार्थना करता मन , कविता , और ईश्वर लगता है कहीं आसपास ही है . ढूंढना बंद कर उसे शायद महसूस करना ज्यादा सार्थक होगा .

    ReplyDelete
  24. पारस सी प्रभावशाली रचना है अनुपमा जी ! खुद ब खुद मन अपने क्रियाकलापों का आकलन करने लग जाता है जो उसकी प्रभु मिलन की तलाश में बाधक बन जाते हैं ! इतनी पावन प्रस्तुति के लिये बधाई !

    ReplyDelete
  25. सुन्दर चित्र के साथ बहुत ही ख़ूबसूरत और भावपूर्ण रचना लिखा है आपने! उम्दा प्रस्तुती!

    ReplyDelete
  26. bahut sundar is man ke bhav....aapko padh kar accha laga



    anu ab aapke sath jud gayi hun....deri le ye maafi mangti hun...

    ReplyDelete
  27. भटक रही थी
    निर्जन वन में ....
    मिला न मुझको वो सुर मेरा ...!!

    बहुत सुंदर कविता और भाव

    ReplyDelete
  28. सुंदर भावाभिव्यक्ति है।


    आभार

    ReplyDelete
  29. sabhi rachnayen bahut hi sunder hai

    ReplyDelete
  30. आभार आप सभी का ...ह्रदय से ...

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!