नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

01 December, 2011

तो जी लूँ कुछ दिन ...!!

 मैं ...अभी तो ..
 लेने का हिस्सा  हूँ ..
लेती ही रहती हूँ..
जग  से ...!!

जग  में रहकर ...
जग  से हटकर ...
जग  को  देकर ...
कुछ देने का किस्सा बनूँ....
तो जी लूँ कुछ दिन ...!!

अरुण की स्वर्णिम आभा  सी
 निखर  सकूं ..
गुलमोहर  के मोहक  रंगों  सी ..
निखर  सकूँ ..

कल-कल , सरिता के शीतल  जल सी..
 बिखर  सकूँ...
मदमाती, मस्त पवन के  झोंखे सी ..
बिखर सकूं ..

रेगिस्तान में फैली हुई स्वच्छ  रेत सी
बिखर सकूँ ..
नम आँखों में बसते ख्वाबों सी ..
बिखर सकूँ..

सप्त सुरों के सरगम सी ..
निखर सकूँ ...बिखर सकूँ ...
कुमुदिनी की पंखुड़ी सी ..
निखर सकूँ..बिखर सकूँ..


निखर सकूँ ..बिखर सकूँ ..इस तरह तो ......?

 .....तो जी लूँ कुछ दिन ...!!

I know not much.....in fact nothing...............!
O GOD...!!Hold me and behold me as I tread ..THE PATH ...IN PURSUIT OF EXCELLENCE ...towards ...
YOU....THE OMNIPRESENT.....!!!!!!

54 comments:

  1. जग में रहकर ...
    जग से हटकर ...
    जग को देकर ...
    कुछ देने का किस्सा बनूँ...

    अति सुंदर ...यही तो जीना है ....

    ReplyDelete
  2. वाह ! अति सुंदर...

    कोयल सा चहक सकूँ,
    इत्र सा महक सकूँ!!

    ReplyDelete
  3. जीने, बढ़ने, फलने-फूलने की कामनाओं से भरपूर कविता बहुत ही सुंदर बन पड़ी है. चित्र भावों को रँग देते हैं.

    ReplyDelete
  4. क्या कहने, बहुत सुंदर

    रेगिस्तान में फैली हुई स्वच्छ रेत सी
    बिखर सकूँ ..
    नम आँखों में बसते ख्वाबों सी ..
    बिखर सकूँ.

    ReplyDelete
  5. बहुत सुंदर भाव ! अब मंजिल दूर नहीं...

    ReplyDelete
  6. बहुत ही खूबसूरत कविता।

    सादर

    ReplyDelete
  7. बहुत क्खूब ..क्या जज्बा है ..सलाम आपकी सोच को.

    ReplyDelete
  8. बहुत खूबसूरत है ख्वाहिश..........

    ReplyDelete
  9. बहुत सुंदर सार्थक अभिव्यक्ति... समय मिले कभी तो आयेगा मेरी पोस्ट पर आपका स्वागत है। :-)

    ReplyDelete
  10. जग में रहकर ...
    जग से हटकर ...
    जग को देकर ...
    कुछ देने का किस्सा बनूँ....
    तो जी लूँ कुछ दिन ...!!

    सुंदर सोच की सार्थक अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  11. बहुत ही खुबसूरत प्रस्तुति ..

    ReplyDelete
  12. सप्त सुरों के सरगम सी ..
    निखर सकूँ ...बिखर सकूँ ...
    कुमुदिनी की पंखुड़ी सी ..
    निखर सकूँ..बिखर सकूँ....बहुत ही खुबसूरत प्रस्तुति ...

    ReplyDelete
  13. विकास के विचार पल्लवित करने से व्यक्तित्व में निखार आता ही है।

    ReplyDelete
  14. कुछ देने का किस्सा बनूँ....
    तो जी लूँ कुछ दिन ...!!
    इस भाव को नमन!

    ReplyDelete
  15. खूबसूरत भावों की माला....
    अप्रतिम रचना...
    सादर बधाई...

    ReplyDelete
  16. aap bhi hissa ban sakti hain ise kuchh dene ka...is dharti ko pollution se bacha kar...dharm ko badha kar...pyar baant kar......etc.etc.

    sunder vicharneey kriti.

    ReplyDelete
  17. यही है जीवन की सार्थकता । हम पहले २५ वर्ष इस समाज से कुछ न कुछ लेते रहते हैं और बाद के पच्चीस भी बीच के पच्चीस में ही हम सक्षम और सामर्थ्यवान होते हैं तो करते चलें, बिखरते चलें, निखरते चलें ।
    सुंदर कविता ।

    ReplyDelete
  18. इस बिखरने और निखरने में जो आनन्द है वह उत्क्रुष्टता आती है जिसकी चाह हर स्रुजनकार को होती है।

    ReplyDelete
  19. सुन्दर स्रजन, ख़ूबसूरत भाव, शुभकामनाएं .

    ReplyDelete
  20. इस तरह तो कुछ दिन जी लूं...
    लिया ही लिया अब कुछ दे दूं ...
    बहुत प्यारी सोच और कविता !

    ReplyDelete
  21. वाह...क्या बात कही...

    बहुत बहुत बहुत ही सुन्दर....

    सत्य है, केवल लेकर ऋणी रह चले जाने में जन्म की क्या सार्थकता...लेने के पश्चात कुछ देकर बांटकर वापस जाए तो कोई बात बने...

    मोह लिया आपकी रचना ने...

    ReplyDelete
  22. बहुत सुन्दर ,गहन अनुभूति...

    ReplyDelete
  23. adhyatm se lipti hui kavitaon ka rang kabhi feeka nahin padta . apki sabhi rachnayen bahut hi khoobsoorat hain , aapko saprem abhar.

    ReplyDelete
  24. bhaut hi khubsurat bhaavo se saji rachna...

    ReplyDelete
  25. बिखर कर निखरना आनंद का स्रोत बन जाता है . जीवन सफल हो जाता है.

    ReplyDelete
  26. सप्त सुरों के सरगम सी ..
    निखर सकूँ ...बिखर सकूँ ...
    कुमुदिनी की पंखुड़ी सी ..
    निखर सकूँ..बिखर सकूँ..

    अनुपम और अनमोल भाव हैं आपके.
    अब तो आप निखरकर हम सभी को
    भी निखार रहीं है जी.

    आपकी सुन्दर पोस्ट पढकर मन निहाल
    हो जाता है,अनुपमा जी.

    ReplyDelete
  27. lene ki chahat hae to arpan ka bhav bhi hae
    saat suron ki sargam man me sapnon me arun ki aabha bhi hae.
    nikhri rahen chandani se man ki galiyan teri
    udane ka chav hae tujhmen to bikharne andaj bhi hae.

    ReplyDelete
  28. लेने की चाहत है तो अर्पण का भाव भी है
    सात सुरों की सरगम मन में सपनों में अरुण की आभा भी है .
    निखरी रहें चांदनी से मन की गलियां तेरी
    उड़ने का चाव है तुझमें तो बिखरने का अंदाज भी है .


    संगीता जी आपके खूबसूरत भावों से भर गया आज मेरा मन ....आपका स्नेह है जो आप ये कह रहीं हैं ...मैं तो कुछ भी नहीं हूँ ...
    आप स्वयं भी हिंदी में लिख सकतीं हैं मेरे ब्लॉग पर ,ऊपर देखिये ...हिंदी में लिखें .....ऐसा लिखा है ......
    मैंने आपका कमेन्ट हिंदी में कर के पोस्ट किया है ...
    आपके इतने प्रेम के लिए मैं ह्रदय से आभारी हूँ ....

    ReplyDelete
  29. अनुपमा जी
    आपकी इस कविता ने मुझे जीवन तथा अध्यात्म की गहरी अनुभूति से भर दिया . आपका लेखन बहुत ही ताजगी से भरा है ..

    बधाई !!
    आभार
    विजय
    -----------
    कृपया मेरी नयी कविता " कल,आज और कल " को पढकर अपनी बहुमूल्य राय दिजियेंगा . लिंक है : http://poemsofvijay.blogspot.com/2011/11/blog-post_30.html

    ReplyDelete
  30. सार्थक प्रस्तुति। मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है । आभार.।

    ReplyDelete
  31. क्या बात है । बहुत ही भाव विभोर कर दिया आपने अपनी कविता के थाप से । मेरे नए पोस्ट पर आपका आमंत्रण है ।

    ReplyDelete
  32. अरुण की स्वर्णिम आभा सी
    निखर सकूं ..
    गुलमोहर के मोहक रंगों सी ..
    निखर सकूँ ..

    बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  33. बहुत सार्थक ,बहुत सुन्दर !
    अनुपमा जी ,कविता के लिये मेरी बधाई स्वीकार करें .

    ReplyDelete
  34. सुन्दर भावपूर्ण रचना..
    मेरे नई पोस्ट में स्वागत है

    ReplyDelete
  35. " बहुत ही अच्छे विचार,अति सुंदर अभिवक्ति ! "

    ReplyDelete
  36. अच्छी भावपूर्ण रचना |
    बधाई
    आशा

    ReplyDelete
  37. नमस्कार...

    जग में रहकर ...
    जग से हटकर ...
    जग को देकर ...
    कुछ देने का किस्सा बनूँ....
    तो जी लूँ कुछ दिन ...!!

    आपके संकल्प को नमन....
    काश सभी ऐसा ही सोचते...

    दीपक....

    ReplyDelete
  38. कुछ देने का किस्सा बनूँ....
    तो जी लूँ कुछ दिन ...!!
    ....
    जी दीदी जीवन तो सच में तभी है !

    ReplyDelete
  39. कल-कल , सरिता के शीतल जल सी..
    बिखर सकूँ...
    मदमाती, मस्त पवन के झोंखे सी ..
    बिखर सकूं ..
    khoobsoorat abhivykti ...abhar.

    ReplyDelete
  40. dear aupama ji aapki sari kratiya hume bhut hi pasand aayi or hum aage bhi chahenge ki aap aise hi likhti rahe...mai aapki in kritiyo se apne fb page jo hindi ko bachne or savarne ke liye h usme sanjona chahta hu..kripya is bare me me sujhav awashya de.....shyam12372@gmail.com

    ReplyDelete
  41. dear anupama ji aapki sabhi kritiya maine padhi or sabhi bhut achi lagi...mai chahunga ki aap samay nikal kar aise hi likhti rahe or hindi ka naam jagat me roshan karti rhe..mai aapki in kritiyo dwara apne ek facebook page http://www.facebook.com/hindihhumvatanh.yehindostahumara jo hindi ko bache,or savarne ke liye h ,ko sajana chata hu ..kripya is bar me mujhe sujhaw avashya de..or agar aapko acha lage to kripya page ko bhi join kare..
    shyam12372@gmail.com
    dhanyawad!

    ReplyDelete
  42. Replies
    1. बहुत आभार संगीता दी ....

      Delete
  43. खूबसूरत भाव. कविता काफी अच्छी लगी.

    ReplyDelete
  44. अरुण की स्वर्णिम आभा सी
    निखर सकूं ..
    गुलमोहर के मोहक रंगों सी ..
    निखर सकूँ ..

    आपकी सारी मनोकामना पूरी हो :))
    शुभकामनायें !!

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!