नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

06 December, 2011

चंद्रमुखी ...........मधुरिमा ...मनोरमा हो तुम ...!!

मैं टकटकी लगाये ताकती  रही ..
चंद्रमुखी के फूल....मेरे आँगन में ...
निरपेक्ष लहलहाती हुई ..  ... 
प्रेम ही प्रेम छलकाती हुई ..
हर आगंतुक का 
स्वागत करती हुई ...
प्रभास का आभास कराती हुई ....
ये चंद्रमुखी की कतार ...!!

ऐसे ही तो नाम तुम्हारा
 नहीं पड़ा चंद्रमुखी ...
कोमलान्गिनी ..सुहासिनी ..
स्पर्श करने से डरती हूँ ..
कहीं तुम मैली न हो जाओ ..!

कितना  खिलखिलाती  हो ....
खिली-खिली तुम्हारी खिलखिलाहट से
खिल कर झूम  रही है बगिया मेरी ...
अपने बाग में  तुम्हें निर्निमेष निहार ..
बाग-बाग..है ...मेरा  ह्रदय ...!!


भीनी भीनी सी खुशबू से ..
हृद भर गया है अब लबालब ..
और ..
तुम्हारे होने का प्रमाण ....!!
मौन ..आकर्षण ......तुम्हारा ...
जब खींचता है मुझे ..अपनी  ओर...
टहलते हुए अपने बाग़ में चहुँ ओर ...
खुलते खुलते खुल ही जाते हैं ...
झीने झीने से मेरे मन के आवरण ...
और अपने भीतर देखती हूँ ....
चारू ..अप्रतिम प्रतिमा  तुम्हारी ...
जैसे खुल गए हों ..
स्वर्ग के  ये द्वार ..
Chrysanthemums ....इन्हें ही शेवंती भी कहते हैं..

देख  कर ही तुम्हें.. 
एहसास होता है  ...
तुम्हारी मौन व्यग्रता का ...
खिली सी ..चंचलता का ...


अरी ओ चंद्रमुखी ...
सगुना सुगुना ..
सच्चंद्रिका समेटे ..
सद्गति की ओर ले जाती हुई ...
सुंदर रंगों में साकार ..
 मेरी सुकल्पना ..
सुघड़ मन अल्पना ...
हर जन्म  की मेरी प्रेमिका  ..प्रियतमा  .....
सुहासिनी ....स्वस्ति ..सुमंगला ............................................................................................
चंद्रमुखी ...मधुरिमा .. मनोरमा  हो तुम ...!!



39 comments:

  1. चन्द्रमुखी की सुन्दरता को समुचित मान देती शब्दों की पंखुड़ियाँ।

    ReplyDelete
  2. Aapki adhiktar rachnayen jivan se bharpur rehti hain.
    Bahut sunder rachna.

    ReplyDelete
  3. बेहद उम्दा .... हार्दिक शुभकामनायें .....

    ReplyDelete
  4. आज का आशीर्वाद... इस चंद्रमुखी से रंग बने रहें ...

    ReplyDelete
  5. सुन्दर शब्दावली, सुन्दर अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  6. वाह क्या बात है...बहुत ख़ूब...बधाई

    ReplyDelete
  7. आपने तो चन्द्रमुखी का बहुत ही खूबसूरती से वर्णन कर दिया………शानदार्।

    ReplyDelete
  8. ख़ूबसूरत चंद्रमुखी की तरह ख़ूबसूरत अभिव्यक्ति के साथ मनमोहक रचना लिखा है आपने!
    मेरे नये पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/
    http://seawave-babli.blogspot.com/

    ReplyDelete
  9. आपकी कविता पढ़ कर बाग़ बाग़ हुआ हमारा हृदय भी!
    Wish you a very very happy anniversary! May the almighty grant both of you eternal bliss of togetherness!!!

    ReplyDelete
  10. सुंदर चित्रों के साथ अति सुंदर कविता !
    शादी की वर्षगांठ पर हमारी तरफ से
    तुमेह और त्रिपाठी जी को बहुत बहुत
    बधाई !!!!

    ReplyDelete
  11. इन फूलों की तरह महकती पोस्ट........और दुआ है ऐसे ही आपकी जिंदगी भी महकती रहे.........आमीन|

    ReplyDelete
  12. शुभकामनाओं का एक बड़ा सा गुच्छा मेरी तरफ से....
    शेवंती पर भी कविता लिखी जा सकती है??? वाकई...लिखी जा सकती है..
    वरना अब तक ख्याल में हरसिंगार,जुही,पलाश,कमल...ही आये थे.
    बहुत खूब.

    ReplyDelete
  13. खूबसूरत प्रस्तुति ||
    बहुत बहुत बधाई ||

    terahsatrah.blogspot.com

    ReplyDelete
  14. छोटे और आसान शब्दों से जो माला आपने गूथी है, उसकी सुंदरता और महक दोनों महसूस हो रहा है।
    अच्छी रचना
    शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  15. महकते फूलो की तरह कोमल पोस्ट..

    ReplyDelete
  16. ऐसे ही तो नाम तुम्हारा
    नहीं पड़ा चंद्रमुखी ...
    कोमलान्गिनी ..सुहासिनी ....
    खूबसूरत प्रस्तुति .

    ReplyDelete
  17. माफ़ी चाहती हूँ कल मैं आपको शुभकामनाये नहीं दे पायी . अनुपमा जी शुभकामनाओं के शब्द भी कम पड़ जाते है जब ह्रदय एकबारगी किसी के लिए उमड़ आये . बस..बस .. बस.. ढेर सारी शुभकामनाये....

    ReplyDelete
  18. बहुत सुंदर चंद्रमुखी का वर्णन मन मोहक पोस्ट आभार

    ReplyDelete
  19. आपकी प्रवि्ष्टी की चर्चा कल बुधवार के चर्चा मंच पर भी की जा रही है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल उद्देश्य से दी जा रही है!

    ReplyDelete
  20. चंद्रमुखी की सुंदरता का बखूबी सुंदर शब्दों से रची बेहतरीन रचना,...
    बहुत२ बधाई स्वीकार करें,..........
    मेरे नए पोस्ट पर इंतजार है,....

    ReplyDelete
  21. चंद्रमुखी के सहारे बहुत ही खूबसूरत उदगार....

    आदरणीया अनुपमा जी वैवाहिक वर्षगांठ की अनंत शुभकामनाएं....
    सादर..

    ReplyDelete
  22. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  23. विवाह की वर्षगांठ पर हार्दिक बधाई और शुभकामनायें ..

    चंद्रमुखी के पुष्पों सी सुवासित रचना ..

    ReplyDelete
  24. बेहतरीन अभिव्यक्ति .... बधाईयाँ जी

    ReplyDelete
  25. विवाह की वर्षगांठ पर हर्दिक शुभकामनाएं और बधाई।

    ReplyDelete
  26. चंद्रमुखी के रूप को और निखार दिया है आपने इन शब्दों से ...
    बहुत बहुत बधाई विवाह की वर्षगाँठ पर ...

    ReplyDelete
  27. चन्द्रमुखी और शेवंती को ही तो गुलदाउदी कहते हैं... अनगिनत रंगों में इसके फूल मनमोह लेते हैं..जैसे मन मोह लिया है आपकी सुंदर कविता ने, शुभ दिन की बहुत बहुत बधाई!

    ReplyDelete
  28. मनोहारी कविता और चित्र

    ReplyDelete
  29. हाँ अनीता जी इसे ही गुलदाउदी भी कहते हैं|मुख्यतः ये ठन्डे प्रदेश का ही फूल है पर अब भारत में भी खूब दिखता है ...१५ जुलाई से इसको बगीचे में लगाने का कार्यक्रम शुरू होता है ...फिर लगातार इसकी देखभाल करना पड़ती है तब जाकर ये बगीचे की शोभा बढ़ाता है ...

    ReplyDelete
  30. वाह ...बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  31. bahut undar shabd vinyass..anupam kriti..bahut bahut badahi sweekar karen..

    ReplyDelete
  32. कितना खिलखिलाती हो ....
    खिली-खिली तुम्हारी खिलखिलाहट से
    खिल कर झूम रही है बगिया मेरी ...
    अपने बाग में तुम्हें निर्निमेष निहार ..
    बाग-बाग..है ...मेरा ह्रदय ...!!

    ...
    अपने अन्तरमन का कुसुम जब खिला होता है दुनिया की हर चीज़ में कविता फूटती है .. बहुत सुंदर कविता है दी !

    ReplyDelete
  33. मन खिल गया पढ़ और देख(चित्र) कर....

    अतिसुन्दर...वाह !!!!

    ReplyDelete
  34. अमृता जी आपने बिलकुल सही दिन मुझे शुभकामनायें दीं हैं ....मैंने 6th शुरू होते ही पोस्ट ब्लॉग पर डाल दी थी ...

    ReplyDelete
  35. चंद्रमुखी ...मधुरिमा .. मनोरमा हो तुम ...!!

    आपकी हर प्रस्तुति मुझे अनुपम लगती है.
    क्या यह आपके नाम का प्रभाव है अनुपमा जी.

    ReplyDelete
  36. chandermukhi ki sunderta ka bakhaan kitne sunder shabdo main kiya hai aapne !!! man baag baag ho gaya itni sunder rachna padkar !!! phoolon ke rang jeevan ke har ek pahlu ko prabhavit karte hain !!! bahut baht badhai !!!

    ReplyDelete
  37. चंद्रमुखी की सुन्दरता का बखान कितने सुंदर शब्दों मैं किया है आपने !!! मन बाग़ बाग़ हो गया इतनी सुंदर रचना पड़कर !!! फूलों के रंग जीवन के हर एक पहलु को प्रभावित करते हैं !!! बहुत बहुत बधाई !!!

    Suman aapka comment maine hindi me de diya .

    ReplyDelete
  38. आप सभी का बहुत बहुत आभार ...आपकी शुभकामनाओं से बहुत ख़ुशी मिली |कविता पसंद करने के लिए आभार ...मेरे शेवंती के फूल आपने पसंद किये मुझे बहुत ख़ुशी हुई ...!

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!