नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

05 April, 2012

धन घड़ी आई आज ...


 धन घड़ी आई आज ...
 आज आनंद ही आनंद है मन में |आज  मेरे  ब्लॉग  का  दूसरा  जन्मदिवस  है  ...!!
मन की सरिता जब ब्लॉग पर डाली थी जानती नहीं थी की इसकी यात्रा मुझे कहाँ-कहाँ ले जाएगी ...!!सच कहूँ इस यात्रा पर चलते चलते मैंने अपने आप को और अच्छे से जाना है ...समझा है .....!अपनी बहुत सारी नकारात्मकता पर विजय हासिल की है ...!नकारात्मक भाव तो अभी भी आते ही हैं मन में ....लिखते लिखते सकारात्मकता ढूंढ लेता है मन .......वही करते रहने की कोशिश जारी रहेगी ...

धीरे धीरे ...लिखते लिखते ..
अपने  आप में इतनी हो गयी हूँ मैं ...
की सच में जग से दूर हो गयी हूँ मैं ...!!

अब जब पीछे पलट कर देखती हूँ मुझे वो सब पड़ाव दिख रहें हैं .........सबसे पहले याद आता है वो संशय ...क्या मैं लिख पाउंगी ...?अच्छा चलो एक तो लिख ही दूं ...बनेगा तो और लिखूंगी ...नहीं तो छोड़ दूँगी ...! कैसे मैंने पहली पोस्ट डाली ...कैसे पहला कमेन्ट आया .....कैसे मुझे धीरे धीरे समझा  कि ब्लोगिंग क्या है ...!!कैसे मैं एकदम  विचलित  हो गयी थी ... ...जब कुछ  ही महीने पहले ,मेरा ब्लॉग गायब हो गया था ...!कितनी उथल -पुथल मच गयी थी मन में .......!पता नहीं कितने फोन.... कितने मेल किये थे ...!!उस समय लग रहा था  जैसे आँखों के सामने से एक दुनिया ही गायब हो गयी है ....!दो घंटे के अन्दर ब्लॉग वापस मिल गया ....!!!वसुधैव कुटुम्बकम ......!जी हाँ ये हम ब्लोगेर्स की दुनिया है ....!ये दुनिया अब जीवन का अभिन्न हिस्सा बन गयी है ....!!धरा पर बहती धारा सी .... बह चली है ....!!

आज एक ख़ुशी से भरा है मन ....एक पहचान जो मिल गयी है ....एक दिशा जो मिल गयी है .....अब .....?
फिर एक प्रश्न अपने मन से ही .......

                                ओरे मनवा तू  क्या है ...?

ओरे मनवा तू  क्या है ...?
एक मूक वेदना है ....
ओढ़कर  जिसकी चादर ...
हर सर्द रात बीतती चले ...!
जिंदगी की राहों पर ...!!


एक घना बरगद ....
जिसकी छाँव तले ..
जेठ की दोपहरी  की तपन से ,
तिड़का ....प्यासा ...बुझा बुझा  मन ...
रुक-रुक कर ..कुछ देर ...
कुछ पल ठहरे ...
आस का दीप, फिर जले ...
फिर चले ...!!
दौड चले ..
जिंदगी की राहों पर .....!!

धुंधली सी एक आकृति ....
उदास क्षणों में .....
सिर सहलाये ...चम्पी  करे ....
बालों में तेल लगाये ...
ऊंची  ...ऊंची पींग ...झूला झुलाये ....
मेरा बचपन लौटा दे ....
खिल खिला कर ...कुछ हंसा कर ...
सजल नेत्र ...
अपने भावों से ..कृतार्थ करे ...
मुझे सुकृत करे .....
फिर दौड़ा दे ....
जिंदगी की  राहों पर .....!!

धरा पर बहती अविरल धारा ...
कल कल ...छल छल ...
कुछ तरंगें ...
गुन-गुन ..नाद ..गुनगुनाये ...
लहरों से ले कुछ उमंगें ...
बने सुरों की तरंगें ...
भर-भर उमंग उछले ...
लहेरों की तरह ...
और ..वो सुर ...सदा  साथ-साथ चलें .........
जन्म जन्मान्तर तक ...
ज़िंदगी की राहों पर .... ...!!

कभी  वेदना  ....कभी बरगद ....
कभी नदिया ..कभी आकृति
कैसे मन में ही ,
मन से ही बनी ... मेरी सुकृती ....
रुलाये भी ,हंसाये भी ...गुनगुनाये भी ...
और आस जगा कर ...
फिर दौड़ा दे...
 ज़िन्दगी की राहों पर ...
ओरे मनवा तू  क्या है ...?

80 comments:

  1. बहुत बहुत बधाई ब्लॉग्गिंग के दुसरे जन्मदिवस पर.
    आप मन की गहराईयों में डूब कर लिखती हैं,
    आपके लेखन में सुन्दर अध्यात्म के दर्शन होते हैं.
    आपके सकारात्मक दिव्य अनुपम लेखन के लिए आपको मेरी बहुत बहुत हार्दिक शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार राकेश जी |अपना आशीर्वाद बनाये रखें ....

      Delete
  2. आपकी सुकृति प्रभावशाली और यशस्वी है . मन के तारों को झंकृत करने वाली आपकी मधुर संगीतबद्ध रचनाये अनुपम आनंद की कारक होती है. ब्लॉग की द्वितीय वर्षगांठ पर अशेष शुभकामनायें ..

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभार आशीष जी .....आप जैसे लिखने वाले,साहित्य प्रेमी जब कुछ कहते हैं तो मन को पारिश्रमिक मिल जाता है ...!!
      बहुत आभार ...!!

      Delete
  3. सुन्दर प्रस्तुति ।

    बधाई ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभार ...!!

      Delete
    2. चर्चा मंच पर हमेशा ही सुकृती को स्थान देने के लिए विशेष आभार ...!!

      Delete
  4. इस अनमोल ब्लॉग की दूसरी वर्षगांठ बहुत बहुत मुबारक हो।


    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका विशेष आभार यशवंत ....आपने हमेशा ही बहुत सहायता की है.....!!आप जैसे सहृदय लोग मुश्किल से मिलते हैं ....आपको बहुत शुभकामनायें ...ह्रदय से ...!!

      Delete
  5. ब्लॉग की द्वितीय वर्षगांठ पर हार्दिक शुभकामनायें... सफ़र ऐसे ही चलता रहे अनवरत...

    ReplyDelete
  6. धीरे धीरे ...लिखते लिखते ..
    अपने आप में इतनी हो गयी हूँ मैं ...
    की सच में जग से दूर हो गयी हूँ मैं ...!!... वाह, इसी तरह कोलाहल से दूर खुद को पाती जाओ

    ReplyDelete
    Replies
    1. रश्मी दी ...आपका आशीर्वाद तथा प्रोत्साहन सदा मिलता रहा है ......बहुत बहुत आभार ...!!

      Delete
  7. भई जे बहुत खराब बात है ... इतना बड़ा दिन और वो भी रूखा रूखा ... न पार्टी न मिठाई ... ऊपर से फिन कविता ... बोले तो टोटल इमोशनल अत्याचार है की नहीं ???

    चलिये पार्टी ड्यू रही ... जब भी मिलते है ... जहां भी मिलते है !

    ज़िंदगी की राहों पर चलते चलते ... अपने सभी फर्ज़ निभाते हुये जिये जाना सब से बड़ी बात है !

    ब्लॉग की दूसरी वर्षगांठ पर बहुत बहुत हार्दिक बधाइयाँ और आने वाले सालों के लिए बहुत बहुत शुभकामनायें !

    ReplyDelete
    Replies
    1. एक नहीं दो पार्टी ड्यू है भई ...एक तो दिल्ली में ''अनुभूती'' के विमोचन की भी .....
      मुझे याद रहेगा ....
      इतनी सुंदर शुभकामनाओं के लिए बहुत आभार ...!!

      Delete
  8. आप के इस अनुपम ब्लॉग के दूसरे जन्मदिवस पर बहुत-बहुत बधाई अनुपमा जी.. ..बहुत सुन्दर प्रस्तुति..

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभार माहेश्वरीजी ....!!

      Delete
  9. bahut bahut shubhkamnaye :)

    Welcome To New Post:
    बलि

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर..............
    यहाँ सभी कुछ सुन्दर है....
    :-)

    अनंत शुभकामनाएँ अनुपमा जी....
    लेखनी अनवरत चलती रहे..............

    सस्नेह

    ReplyDelete
    Replies
    1. Beauty lies in the eyes of beholder .....!!
      आपकी दृष्टि सुंदर है जो आप सुंदरता देख पाती हैं ...!!
      आपना स्नेह बनाये रहिएगा ....!!
      बहुत आभार ...!!

      Delete
  11. ब्लॉग की द्वितीय वर्षगांठ पर हार्दिक शुभकामनायें ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभार वंदना जी ..

      Delete
  12. मुबारक और शुभकामनाएँ!
    खूबसूरत एहसास!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार अशोक जी ...
      अपना आशीर्वाद बनाये रहिएगा ....!!

      Delete
  13. ब्लॉग की दूसरी वर्षगांठ की बहुत-बहुत बधाई

    MY RECENT POST...फुहार....: दो क्षणिकाऐ,...

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद ....!!

      Delete
  14. शुभकामनाएं...शुभकामनाएं...शुभकामनाएं...

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत बहुत आभार अमृता जी ...
      अपना स्नेह बनाये रखियेगा ....!!

      Delete
  15. Replies
    1. चर्चा मंच पर हमेशा ही सुकृती को स्थान देने के लिए विशेष आभार ...!!

      Delete
  16. दो वर्ष होने की अतिशय बधाईयाँ, ऐसे ही लिखती रहें आप।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार प्रवीन जी .....ऐसे ही शुभकामनायें देते रहें आप ...!

      Delete
  17. बहुत बहुत बधाई .. रचनाधर्मिता कायम रहे

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुभकामनाओं के लिए ह्रदय से आभार ...!!

      Delete
  18. बहुत ही सुंदर प्रस्तुति । मेरे नए पोस्ट पर आपका बेसब्री से इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  19. दो वर्षों का सफर और इतनी सुन्दर-सुन्दर कवितायें.. शुभकामनाएं इसी तरह हर मौसम की तरह खूबसूरती बिखरी रहे आपके ब्लॉग पर!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार सलिल जी ...
      स्नेह बनाये रखें ...और टिप्पणी से मार्गदर्शन देते रहें ....!!

      Delete
  20. दो वर्ष का सफर ...उसके लिए बधाई .... यह सफर निरंतर चले उसके लिए शुभकामनायें

    सुंदर प्रस्तुति ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपको विशेष आभार संगीता जी ...आपने बहुत उत्साह बढ़ाया है ....हमेशा ही बहुत प्रोत्साहित किया है ...!शुरू से ही आपकी टिप्पणी की रास्ता मेरी आँखें देखा करतीं थीं ...अपना स्नेह एवं आशीर्वाद बनाये रखियेगा ...!!

      Delete
  21. जिसने मन पर गौर किया,केवल वही जान पाएगा।

    ReplyDelete
  22. कभी वेदना ....कभी बरगद ....
    कभी नदिया ..कभी आकृति
    कैसे मन में ही ,
    मन से ही बनी ... मेरी सुकृती ....
    अपने भावों को सशक्त रूप में अभिव्यक्त करने की अद्भुत कला है आपके भीतर...... सुन्दर शब्दों का चयन और भावानुसार कविता को प्रभावी स्तर पर बनाये रखना. सब कुछ दिव्य...... ईश्वर करे यही ऊर्जा आपके भीतर बनी रहे. अनेकानेक शुभकामनायें !

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार ....!!
      कृतज्ञ हूँ.
      स्नेह बनाये रखें ...

      Delete
  23. देर से आने के लिए क्षमा!
    दो वर्षों के इस सफर के लिए बधाइया और भविष्य के लिए असीम शुभकामनाए!
    कविता के भाव मन को छूते हैं। बिम्बों का अद्भुत प्रयोग किया है।

    ReplyDelete
  24. मनोज जी बहुत आभार ...!
    आपका भी विशेष आभार ,आपने भी समय समय पर बहुत मदद की |बहुत प्रोत्साहित भी किया |अपना स्नेह युहीं बनाये रहिएगा ...!!

    ReplyDelete
  25. ढेर सारी शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार अविनाश ...!!आप जैसे पुख्ता और सुघड़ लिखने वालों की शुभकामनायें मिलतीं हैं ...बहुत प्रसन्नता होती है ....!!!!!ईश्वर आपको हर ख़ुशी दें ...!!

      Delete
  26. दो वर्ष पूरे होने पर ढेर सारी शुभकामनाएँ...

    ReplyDelete
  27. ब्लोगिंग के २ साल पूरे होने पर बधाई. बहुत सुन्दर भावपूर्ण रचना, शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभार जेन्नी जी ...

      Delete
  28. बहुत ही बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति....


    इंडिया दर्पण
    की ओर से शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  29. हार्दिक बधाई .. शुभकामनायें, आपको पढने का अनुभव बहुत सुखद है ....सतत लिखती रहें ....

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभार मोनिका जी ...
      अपना स्नेह बनाये रहिएगा ...

      Delete
  30. अनुपमा जी ब्लाग की वार्षिकि पर मेरी बधाई स्वीकार करें । आपकी ये काव्य -पंक्तियाँ अपनी कोमलता से मन को छू गई-धुंधली सी एक आकृति ....
    उदास क्षणों में .....
    सिर सहलाये ...चम्पी करे ....
    बालों में तेल लगाये ...
    ऊंची ...ऊंची पींग ...झूला झुलाये ....
    मेरा बचपन लौटा दे ....
    खिल खिला कर ...कुछ हंसा कर ...
    सजल नेत्र ...
    अपने भावों से ..कृतार्थ करे ...
    मुझे सुकृत करे .....
    फिर दौड़ा दे ....
    जिंदगी की राहों पर .....!!
    -आप अनवरत लिखती रहें ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभार हिमांशु जी ...
      अपना आशीर्वाद बनाये रहिएगा ...!!

      Delete
  31. कभी वेदना ....कभी बरगद ....
    कभी नदिया ..कभी आकृति
    कैसे मन में ही ,
    मन से ही बनी ... मेरी सुकृती ....

    बेहद खूबसूरत सुकृति

    ReplyDelete
  32. आभार ,वंदना जी ...ह्रदय से ...!

    ReplyDelete
  33. शुभकामनायें स्वीकार करें ...

    ReplyDelete
  34. जी बिलकुल....बहुत आभार सतीश जी ...!!

    ReplyDelete
  35. आज 08/04/2012 को आपका ब्लॉग नयी पुरानी हलचल पर (सुनीता शानू जी की प्रस्तुति में) लिंक किया गया हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभार यशवंत ....और सुनीता जी का भी .....इतनी खूबसूरती से याद करने के लिए .......हलचल से मन बहुत जुड़ा है ......ये हलचल सदा चलती रहे यही दुआ है ...

      Delete
  36. खूबसूरत यादें,
    सुंदर कविता।

    ReplyDelete
  37. bilkul steek chitran ...badhai tripathi ji .

    ReplyDelete
  38. बहुत बहुत बधाई, इतनी सुंदर कविता के लिये व आपके सुंदर ब्लॉग के दो वर्ष पूरे होने पर !

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार अनीता जी ...!!मार्गदर्शन देती रहें ...

      Delete
  39. ब्लॉग की इस दुनिया में ..२ वर्ष पूरे होने के हर्ष का में केवल अंदाजा ही लगा सकती हूँ....मुझे अभी इस परिवार से जुड़े केवल २ ही महीने हुए हैं ....इस में मिले अपनेपन की मुझे आदत हो गयी है ....मेरा दिन इसी दुनिया से शुरू होता है ...और रात में भी जाते जाते जल्दी से एक बार झाँक जाती हूँ......आपको २ वर्ष पूरे होने की ढेर सारी बधाई और शुभकामनाएं....!!!!

    ReplyDelete
  40. बहुत आभार ....!!
    अपना स्नेह बनाये रहिएगा ....!!

    ReplyDelete
  41. अपने आप को खोज लेना बहुत बड़ी उपलब्धि है अनुपमा जी लेकिन आप इससे भी अधिक बहुत कुछ हैं, चहुँ ओर विस्तीर्ण संगीत की एक अत्यंत मधुर स्वर लहरी, अपनी कविताओं के माध्यम से सहलाता सा स्नेह का एक मखमली आँचल और सात्विक भावों से छलकती एक बहुत ही मनभावन गगरी ! शहर से बाहर थी इसलिए आज कई दिनों के बाद आपके ब्लॉग पर आ पाई हूँ ! ब्लॉग की दूसरी वर्ष गाँठ मनाने के लिये हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  42. आदरणीय साधना जी, आपके शुभवचन सुन कर बाग बाग हो गया मन ...!!बहुत बहुत आभार ...!!अपना आशीर्वाद और अनुराग हमेशा बनाये रखियेगा...!!

    ReplyDelete
  43. लेट-लतीफों की तरह मैं देर से पहुंची .... चलो कोई बात नहीं .... पार्टी नहीं .... ना सही .... छोटी बहन को बधाई और शुभकामनाएं .... !!

    ReplyDelete
  44. देर आये दुरुस्त आये ....आप आ ही गयीं येही बड़ी बात है मेरे लिए ....आपका आशीर्वाद मिला ...शुभकामनायें मिलीं ...यही तो चाहिए ही ....बहुत बहुत आभार आपका ...ऐसे ही अपना प्रेम बनाये रखें ...!!

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!