नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

20 April, 2012

आग लक्ष्य की .....!!


उर से -
आग लक्ष्य की ..
कभी बुझी नहीं .....
इन राहों पर .. मैं ..
इक पल भी ..
कभी रुकी नहीं ......
पथरीले रास्तों पर चलते चलते ...
रिसने लगा  खून .....
चलती  रही  मैं  ...अनवरत  ...
मूँद कर नयन ...एकाग्रचित्त ...
सुरों की माला जपती .......
स्वयं को बूझती...
 फिर भी ...
स्वयं से अपरिचित ....!!

बीतता रहा समय ...
चलती रही मैं ...
अब ..धीरे धीरे होता जाता है ...
कुछ आभास तुम्हारी उपस्थिती का ...
 और कुछ विश्वास मेरी प्रतीति का ... ...
हवा में फैली ..
तुम्हारी खुशबू है ...!!
जानती हूँ...
तुम्हें पहचानती हूँ ...
अनुनेह मेरा ग्रहण करोगे ...
 निर्मोही नहीं हो तुम ...
क्योंकि जानते हो ...
दर्शन पाए बिना तुम्हारे ....
नयनो की प्यास बुझेगी नहीं ...
अंतर्मन की ...
ये ज्वाला  बुझेगी नहीं ....!!

अपने भक्तों को
छटपटाता देख सकते हो .....
तो जलने दो मुझे ...
युगों युगों तक ऐसे ही .....
दर्शन पाए बिना तुम्हारे ...
तृषा से व्याकुल ...
जलती रहेगी मेरी काया ....!!
तपन जिया की बन के ...
प्रकट हो  ....
हे प्रभु ...दर्शन दो ....!!
ज्ञान से पथ प्रशस्त करो ..
भव तार दो ...!!

33 comments:

  1. दर्शन पाए बिना तुम्हारे ....
    नयनो की प्यास बुझेगी नहीं ...
    अंतर्मन की ...
    ये ज्वाला बुझेगी नहीं ...

    सुंदर अभिव्यक्ति,बेहतरीन रचना,...अनुपमा जी,...

    MY RECENT POST काव्यान्जलि ...: कवि,...

    ReplyDelete
  2. सुन्दर प्रस्तुति |
    आभार ||

    शुभकामनाये ||

    ReplyDelete
  3. भव सागर पार करने के लिए..खुद को पाने के लिए..उसमें डूबना ज़रूरी है..

    ReplyDelete
    Replies
    1. ईश्वर पर बहुत आस्था है मेरी ....आपके द्वारा आज प्रभु ने संदेसा भेजा है ....कैसे आभार प्रकट करूँ आपका ....!!

      Delete
  4. रह रहकर धधक उठती है वह आग, बहुधा सोने के पहले।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बिलकुल ठीक .....क्योंकि जगा रहता है अंतर्मन ....लगन इसी को कहते हैं ...शायद ...!!

      Delete
  5. सच्चिदानंद की मार्ग में एक और पुष्पांजलि . सदह्रदय की पुकार , दर्शन तो तारणहार.

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका ह्रदय से आभार आशीष जी ...

      Delete
  6. अनूठे शब्द और अद्भुत भाव से सजी इस रचना के लिए बधाई स्वीकारें...

    नीरज

    ReplyDelete
  7. दर्शन पाए बिना तुम्हारे ....
    नयनो की प्यास बुझेगी नहीं ...
    अंतर्मन की ...
    ये ज्वाला बुझेगी नहीं ....!!
    अनुपम भाव संयोजन ... लिए उत्‍कृष्‍ट अभिव्‍यक्ति ।

    ReplyDelete
  8. उर में यह आग जलती रहे , तभी संभव है विजय

    ReplyDelete
  9. सुन्दर भाव...सुन्दर कृति....

    ReplyDelete
  10. परमात्मा प्राप्ति की एक वहिर्मुखी यात्रा है और एक अंतर्मुखी.. आपने वहिर्मुखी यात्रा का वर्णन किया है.. वह मार्ग कर्म का है, ऐसा भगवान कृष्ण ने गीता में बताया है. परमात्मा की उपस्थिति को अनुभव करते हुए और अपने कर्म में निष्काम भाव से रत रहते हुए, परमात्मा की प्राप्ति. नहु सुन्दर रचना!!

    ReplyDelete
  11. ख़ूबसूरत रचना, सुन्दर भावाभिव्यक्ति .

    कृपया मेरे ब्लॉग"meri kavitayen" की १५० वीं पोस्ट पर पधारें और अब तक मेरी काव्य यात्रा पर अपनी राय दें, आभारी होऊंगा .

    ReplyDelete
  12. bahut achcha likhtin hain aap.....

    ReplyDelete
  13. अब ..धीरे धीरे होता जाता है ...
    कुछ आभास तुम्हारी उपस्थिती का ...
    और कुछ विश्वास मेरी प्रतीति का ... ...

    बहुत सुन्दर ये अहसास यूँ ही जगा रहे ।

    ReplyDelete
  14. परमात्मा की प्राप्ति अंतर्मुखी यात्रा सुन्दर अहसास|

    ReplyDelete
  15. बीतता रहा समय ...
    चलती रही मैं ...
    अब ..धीरे धीरे होता जाता है ...
    कुछ आभास तुम्हारी उपस्थिती का ...
    और कुछ विश्वास मेरी प्रतीति का ... .

    यह विश्वास बना रहे.. बहुत बहुत शुभकामनायें...

    ReplyDelete
  16. अंतर्मन से उठते भाव ...बहुत सुन्दर ..

    ReplyDelete
  17. बहुत अच्छी प्रस्तुति!
    इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभार शास्त्री जी ...!!

      Delete
  18. सुन्दर एहसास कि कविता...

    ReplyDelete
  19. हवा में फैली ..
    तुम्हारी खुशबू है ...!!
    जानती हूँ...
    तुम्हें पहचानती हूँ ...
    अनुनेह मेरा ग्रहण करोगे ...
    ईश्वर के प्रति मन में उठे भाव को जिस सहजता अपनत्व,समर्पण से आप ने अपनी कविता में व्यक्त किया है उससे मन भाव विभोर हो गया ,

    ReplyDelete
  20. prabhu darshan ko tarasti mragmareechika hai yeh kaya bhakti bhaavabhivyakti bahut sundar post.

    ReplyDelete
  21. हे प्रभु ...दर्शन दो ....!!
    ज्ञान से पथ प्रशस्त करो ..
    भव तार दो ...!!

    Yah khyal man me roz hi aata hai.... sunder, ati sunder

    ReplyDelete
  22. हवा में फैली ..
    तुम्हारी खुशबू है ...!!
    जानती हूँ...
    तुम्हें पहचानती हूँ ...
    ...बिलकुल ठीक क्यूंकि इसे पहचाने बिना आगे बढ़ना असंभव है!

    ReplyDelete
  23. इन स्नेहिल वचनों को वह प्राप्त हो, जिसकी आकांक्षा है।
    मधुरिम!

    ReplyDelete
  24. Bahut hi Sundar prastuti. Mere post par aapka intazar rahega. Dhanyavad.

    ReplyDelete
  25. कभी कभी कुछ ऐसे ही ख्याल मेरे मन में भी आते हैं..
    कविता बेहद खूबसूरत है :)
    भगवन पर तो आपकी ही तरह मेरा भी बहुत विश्वास है!!

    ReplyDelete
  26. आस्था और शब्दों से भावों की सुन्दर प्रस्तुति | परम शक्ति ही हमें उर्जावान बनाये रखती है |

    ReplyDelete
  27. कण कण में प्रभु है ...सुंदर रचना ...

    ReplyDelete
  28. प्रभु नमन ...!!
    आप सभी का ह्रदय से आभार मेरे अंतर्मन कि प्रार्थना में आप जुड़े .........!!

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!