नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

04 September, 2012

काग़ज़ की नाव सा ...

नहीं कोई ठाँव सा ....
काग़ज़  की नाव सा ...


बहता हूँ जीवन की नदिया में ...
शनै: शनै: डूबता हुआ  ....
क्षणभंगुर जीवन ...
किंकर क्षणों  मे ही ...
आकण्ठ डूब  जाऊँगा ...
अब तुम पर ..
सब तुम पर है ..
 पार लगाओ ...
मेरा जीवन सुधार दो ....
सँवार दो ..
अरज  बस इतनी ही है ..उद्धार करो ...!!
 हे प्रभु कल्याण करो। .!!

39 comments:

  1. अरे अनुपमा जी...आपसे ये उम्मीद न थी...
    और प्रभु आपकी अरज न सुने ऐसा संभव है क्या???

    रचना सुन्दर!!!
    सस्नेह
    अनु


    ReplyDelete
  2. मन मोहनी मधुर मनुहार..

    ReplyDelete
  3. इश्वर से आर्द्र प्रार्थना , शुद्ध ह्रदय से, वो सुनता जरुर है . भक्तवत्सल तो नंगे पांव दौड़े आते है , फिर डूबने की बात ही कहा है , उबारेंगे ही , बहुत सुन्दर.

    ReplyDelete
  4. बहुत खूब ....शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
  5. prabhu se prem bhara mnuhar pasand aaya.........

    ReplyDelete
  6. बहुत शानदार भाव अभिव्यक्ति,,,,शुभकामनाये,,,,

    ,तुम जो मुस्करा दो,

    ReplyDelete
  7. नहीं कोई ठावँ(ठाँव ) सा ....
    काग़ज़ की नावँ (नाव )सा ...बढ़िया रचना है प्रभु अर्चना है ,प्रभु कहतें हैं उद्धव जी को इंगित कर -उधौ मोहे संत सदा अति प्यारे ,मैं संतन के पाछे जाऊं संत न मोते न्यारे ,संत मिलें तो मैं मिल जाऊं संत न मोते न्यारे ,सत की नाव खेवटिया सतगुरु ,भाव सागर से तारे .... संगीत बद्ध कीजिए इस रचना को ..बढिया प्रस्तुति है आपकी जीवन की नश्वरता पर -पानी केरा बुदबुदा ,अस मानस की जात,देखत ही बूझ जाएगा ज्यों , तारा परभात (प्रभात ) जैसे प्रभात होते ही तारे ओझल हो जाते हैं दृश्य पटल से वैसे ही यह जीवन पानी के बुलबुले सा अल्पकालिक है ,क्षण भंगुर है ,अल्प कालिक द्रव्य की मूलभूत कणिकाओं सा है .बधाई इस रचना के लिए जो भाव विरेचन करवाने में समर्थ है .
    स्त्री -पुरुष दोनों के लिए ही ज़रूरी है हाइपरटेंशन को जानना
    स्त्री -पुरुष दोनों के लिए ही ज़रूरी है हाइपरटेंशन को जानना
    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/

    ReplyDelete
  8. मेरा जीवन सुधार दो ....
    सँवार दो ..
    या डूब ही जाने दो ...
    अरज बस इतनी ही है ..
    हे प्रभु .......मुझे सिधार दो

    प्रेम भरी बिनती

    ReplyDelete
  9. बिल्कुल, प्रभु का आसरा

    सुंदर रचना

    ReplyDelete
  10. जीवन तो क्षणभंगुर ही है .... सुंदर भक्ति भाव से लिखी रचना

    ReplyDelete
  11. आध्यात्म भाव की कविता

    ReplyDelete
  12. अच्छी भावाभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  13. Teachers day ki shubhkamnayen ...
    sundar links ke sath achchhi vartaa ...
    bahut abhar Sandhya ji Blog varta par meri rachna lene ke liye ...

    ReplyDelete
  14. बहुत सुन्दर.. ये अरज कि हमें सुधार दो तो ठीक लगी.. पर सिधार दो का मतलब समझ नहीं आया मुझे.. शायद मैं सही समझ नहीं पा रहा हूँ..
    सादर
    मधुरेश

    ReplyDelete
    Replies
    1. Madhuresh ..

      आध्यात्म भाव से आत्मा की प्रार्थना है ..भाव सागर पार करो प्रभु ..भव सागर तर जाऊं ...कुछ इस तरह ...!!भव पार लगा कर मोक्ष पाने की प्रार्थना है मन में ....सिधार दो का अर्थ जीवन मरण के फेर से दूर करने से है ...

      पता नहीं मैं ही अपने भाव लिखने में कितना सक्षम हुई हूँ ...
      आत्मा का भजन है ये ...परमात्मा से ...Bahut abhar itni ruchi se aapne ise padha ...

      Delete
  15. काग़ज़ की नाव जीवन को सही राह दिखाती है, और भवसागर पार लगाती है।

    ReplyDelete
  16. बहुत ही अच्छी कविता |आभार

    ReplyDelete
  17. सुन्दर अनुपमाजी ...जीवन नैय्या का बिम्ब ज़रूर परिचित था लेकिन बहुत ही नए ढंग से प्रस्तुत किया

    ReplyDelete
  18. कागज़ की नाव ... जीवन की अनिश्चितता को पानी में उतर बताती है

    ReplyDelete
  19. मन के भाव ,अर्ज़ के नाव.....!
    खुबसूरत!

    ReplyDelete
  20. आमीन ... प्रभू के चरणों में जो प्रार्थना होती है ... प्रभू उसको सुनता है ...
    सुन्दर भावमय रचना ....

    ReplyDelete
  21. बहुत सुन्दर अनुपमाजी..मेरी पोस्ट मे आप का स्वागत है..

    ReplyDelete
  22. भावमय करते शब्‍द ... उत्‍कृष्‍ट लेखन के लिए आभार

    ReplyDelete
  23. मेरा जीवन सुधार दो ....
    सँवार दो ..
    या डूब ही जाने दो ...
    अरज बस इतनी ही है ..
    ...बहुत ही अच्छी कविता .आभार

    ReplyDelete
  24. pyari si vinti..
    waise Anulata jee ke baato se sahmat..
    apko aise vinti ki kyon jarurat:)

    ReplyDelete
    Replies
    1. I have full faith in GOD ...!!Vinti to karanaa hi chahiye ...Mere Prabhu doobane thodi denge mujhe ....
      paar to karayenge hi ...:))

      Delete
  25. ईश्वर की मर्जी जो चाहे दे दे ....यह विश्वास और समर्पण इस जीवन रूप नाव को भली भांति खेता है !

    ReplyDelete
  26. गहरे मर्म लिए हुए शब्द हैं आपके......
    इस सुन्दर काव्यांजलि के लिए आभार !!

    ReplyDelete
  27. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि-
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल बृहस्पतिवार (06-09-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ...!
    अध्यापकदिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  28. बहुत खूब !

    हर क्षण गुँजाइश
    रहती है कहीं
    जीवन संवरता
    भी है और
    सुधरता भी
    है तो
    केवल यहीं !

    ReplyDelete
  29. सुंदर दर्शन भरी कोमल कविता । कागज की नाव सा ही तो है हमारा जीवन । इसे प्रभु ही सुधार और सिधार सकते हैं ।

    ReplyDelete
  30. अब तुम पर ..
    सब तुम पर है ..
    पार लगाओ ...
    .......सुंदर भक्ति भाव से लिखी रचना अनुपमा जी

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!