नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

05 January, 2014

पायो जी मैंने राम रतन धन पायो .....

एक कलाकार कल्पना शील होता है !कुछ नया सोचना और उसको पूरा करना, इसी  प्रयास मे लगा रहता है !
मेरे अंदर का कलाकार भी मुझे कभी सुस्ताने नहीं देता !!पिछले कई दिनों से अपने एक सपने को साकार करने मे प्रयासरत थी!!
 आप सभी के लिए अपनी एक औडियो सी डी तैयार की है बहुत उम्मीद है आप पसंद करेंगे ...!!

आठ गाने हैं !
1-पायो जी मैंने राम रतन धन पायो - lyrics-traditional
2-ओ श्यामा भव सागर पार कराओ  lyrics -Anupama tripathi
3-सखी साजन अबहुन  आए  lyrics-Ashish Rai
4-श्याम ने न आवन की ठानी-lyrics-Anupama Tripathi
5-आज रात चाँद को  lyrics-Shobha Shrivastava
6-घिर आई कारी बदरिया lyrics-traditional
7- पिया पिया पुकारे दिल नदिया किनारे lyrics-traditional
8-महिया .....पंजाबी और  हिन्दी   lyrics-Anupama tripathi and punjabi lyrics-traditional .




एक ही तरह के गाने न लेकर अलग अलग रंग लिए हैं ताकि सभी को गाने पसंद आयें |

कई दिनों की मेहनत से गाने ढूँढे ,उन्हें स्वर बद्ध किया फिर रिकॉर्ड किया !!एक गाना आशीष भाई  (राय )जी
का लिखा हुआ भी है |

अगर आप इसे सुनना चाहें तो tripathi_anupama@yahoo.com पर अपना पता भेज दें |वीपीपी से आपको सीडी भेज दी जाएगी |मूल्य 200/rs.है |वीपीपी शुल्क अलग |
पहला प्रयास है गलतियाँ भी ज़रूर हुई होंगी |उन्हें क्षमा करके आशा है आप मेरा प्रयास पसंद करेंगे ...!!

41 comments:

  1. बहुत सुन्दर व् सार्थक अभिव्यक्ति .नव वर्ष २०१४ की हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  2. बहुत बहुत बधाई और इस संग्रह की सफलता के लिए शुभकामनायें. कुछ महीनों में शायद दिल्ली आना होगा तो आपसे सीडी लेकर जाऊँगा.

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत खुशी की बात है मेरे लिए ...!!जब भी आयें ज़रूर बताएं !!

      Delete
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज सोमवार (06-01-2014) को "बच्चों के खातिर" (चर्चा मंच:अंक-1484) पर भी है!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. शास्त्री जी आपका भी पुनः आभार आपने समय समय पर चर्चा मंच पर मेरी रचनाओं को स्थान दिया है और मुझे हमेशा प्रोत्साहन दिया है !!स्नेह एवं आशीर्वाद बनाए रहिएगा !!

      Delete
  4. हृदय से आभार शास्त्री जी मेरी पोस्ट को चर्चा मंच पर देने हेत |

    ReplyDelete
  5. आपको ढेरों शुभकामनायें, स्वर में सरस्वती बसें।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपके सतत प्रोत्साहन व शुभकामनाओं के लिए हृदय से आभार प्रवीण जी !!जीवन के इस पड़ाव तक आने में आप लोगों की शुभकामनाओं का असर भी रहा है !!पुनः हृदय से आभार ,स्नेह बनाए रहिएगा !!

      Delete
  6. बहुत सुन्दर.
    शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  7. मेरे कर्ण पट तक इन आठो गीतों कि मधुर आवाज़ पहुच चुकी है . राम रतन धन को सुनकर ईश्वरीय अनुभूति और पंजाबी गीत से मिटटी कि सोंधी खुश्बू , मै भागयशाली हूँ कि मेरे शब्दो को अनुपम दी का स्वर मिला . मेरे शब्द अपनी मंजिल पाकर प्रफुल्ल है . बहुत ही मधुर संगीत और उत्कृष्ट गायन का फल है ये सी डी.

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपको भी बधाई आशीष जी !!

      Delete
    2. आपके लिखे हुए गीत में वो भाव हैं आशीष भाई जो सूर ,मीरा या कबीर के पदों में होते हैं !!विरह की वेदना जैसे बह निकली है .....इस गीत को गाकर वही अनुभूति हुई |आपकी लेखनी को नमन ।

      Delete
  8. हृदय से आभार आशीष भाई !!आपके शब्दों में बहुत शक्ति है और मैंने पूरी कोशिश की है उन भावों से जुडने की |मुझे तो आपका लिखा गीत ही सबसे ज्यादा पसंद आया |हाँ पंजाबी गीत भी सभी पसंद कर रहे हैं !!

    ReplyDelete
  9. बहुत बहुत शुभकामनाऐं आपका प्रयास सफल हो !

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर व् सार्थक अभिव्यक्ति ,... हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
    Replies
    1. हृदय से आभार माहेश्वरी जी ...आप सभी का प्रोत्साहन सतत मिलता रहा है जिससे ये कार्य सफल हुआ !!स्नेह एवं शुभाशीष बनाए रखें ...!!

      Delete
  11. Replies
    1. हृदय से आभार मोनिका जी ....समय समय पर टिप्पणी के रूप मे मिलता आप सभी का प्रत्साहन मन मे जोश भरता गया !स्नेह बनाए रहिएगा ....!!

      Delete
  12. शुभकामनाऐ ....आप सतत अपने सपनों को साकार करती रहे , आशिष जी को भी बधाई ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हृदय से आभार अमृता जी .....आपकी शुभकामनायें साथ देती रहेंगी तो कदम भी आगे बढ़ते रहेंगे ...

      Delete
  13. ढेरों बधाई और शुभकामनायें ... माँ सरस्वती की कृपा बनी रहे ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. हृदय से आभार दिगंबर जी ....आप सभी की शुभकामनाओं का ही नतीजा है यह ...स्नेह एवं शुभकामनायें बनाए रहिए ॥

      Delete
  14. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन फर्क नज़रिए का - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
    Replies
    1. शिवम आपने भी यथासमय प्रत्साहित किया ....पुनः हृदय से आभार ....शुभकामनायें व स्नेह बनाए रहिएगा ...!!

      Delete
  15. बधाई एवं शुभकामनाएँ..

    ReplyDelete
    Replies
    1. हृदय से आभार समीर भाई !!शुभकामनाओं के बिना जीवन में कुछ भी हासिल कर पाना असंभव है !!मेरा सौभाग्य रहा आप सभी की शुभकामनायें मिलती रहीं ....स्नेह एवं शुभाशीष बनाए रहिएगा ॥!!

      Delete
  16. बहुत बहुत बधाई और ढेरों शुभकामनाएं अनुपमा जी......
    आपके लिए बेहद उज्जवल और सुरीले भविष्य की कामना करती हूँ.

    सस्नेह
    अनु

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार अनु ...तुम्हारा प्रेम पग पग पर साथ चलता रहा ....आशा है आगे भी चलता रहेगा ...हृदय से आभार ...

      Delete
  17. Replies
    1. बहुत बहुत आभार देवेंद्र जी |समय समय पर आपकी शुभकामनायें मिलती रही हैं |स्नेह एवं शुभकामनायें बनाए रहिएगा !!

      Delete
  18. Replies
    1. हृदय से आभार अनुपमा।स्नेह बनाए रखें .

      Delete
  19. मैं तो कब से कहने वाला था कि आपकी कविताएँ/गीत आपकी आवाज़ में एक साथ सुनने को मिलनी चाहिए... बधाई!! और शुभकाम्नाएँ!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. हृदय से आभार सलिल जी .आपकी शुभकामनायें काम कर गईं !बहुत खुशी मिल रही है इसे लोगों तक पहुंचा कर ....अच्छा रेस्पोंस आ रहा है ...!!ऐसे ही स्नेह एवं शुभकामनायें बनाए रहिए ...!!

      Delete
  20. हार्दिक बधाई बहन !आप अपनी स्वर सुरभि सदा इसी तरह बिखेरती रहें। रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार भैया ...स्नेह एवं आशीर्वाद बनाए रखें ....!!

      Delete
  21. अनुपमा जी बहुत बहुत बधाई, अवश्य ही हम आपकी मधुर आवाज में भजन सुनना चाहेंगे.

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!