नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

22 August, 2011

प्रभु कृपा करो ऐसी .......!!

कंटक जीवन पथ..
लहू-लुहान होते थे पग..
न था कोई भी रथ ..
पग-पग चलते..
बन-बन घूमे ...
जीवन की कठिनाईयों का-
करते आलिंगन ..
असुरों का  करते संहार..
दीनो का करते उद्धार ..
दे दो सबको ऐसी भक्ति ..
और मुझे दो ऐसी शक्ति ..
जब-जब तुम राम बनो...
मैं तुम्हारी सीता बनूँ..

फिर तुम संग समय रथ पर ...
अब देख रही हूँ ह्रदय विदारक शोर....
वो मार-काट स्वजनों की...
 वो कर्ण भेदता क्रंदन चहुँ ओर.......
जब अपनी ही नज़रों से
गिरता इंसान....
तुम कृष्ण बने ....
और करते थे जग का कल्याण ..

युद्ध के रथ पर-
अर्जुन का संबल बने...
ज्ञान मार्ग पर -
प्रखर चमकता चक्र दिखे ...
देते थे उपदेश जगत उत्थान का ..
रखते जब-जब ध्यान जीवन-मान का...
प्रभु कृपा करो ऐसी ..
रहे तुम्हारा वृहद् हस्त ...
कृपा तुम्हारी ..
ऐसे समय रहूँ तुम्हारे संग.
तुम्हारे अपार ज्ञान रुपी सागर में से..
पोर-पोर ज्ञान में डूबी  हुई .... 
मैं तुम्हारी बस एक बूँद गीता बनू....!!!!!!

जन्माष्टमी  के  पर्व  की  सभी  सुधि  पाठकों  को  हार्दिक  शुभकामनायें ...
 प्रत्येक मनुष्य में प्रभु का वास है ....श्री राम की भक्ति और श्री कृष्ण का ज्ञान ...इन भावों को अपने ही अन्दर जागृत करने के विचार से इस  कविता का सृजन हुआ ......अब रखो लाज गिरधारी ऐसी के हम सब मिल-जुल  ...प्रेम  बाँटते  चलें  ...ज्ञान  बंटते  चलें...!!!!!!!!

27 comments:

  1. श्री कृष्ण जन्माष्टमी की बधाइयाँ!

    ReplyDelete
  2. बहुत ही सुन्दर.... happy janmaastmi...

    ReplyDelete
  3. सब कुछ समाहित किये है कृष्ण का चरित्र ....जन्माष्टमी के पावन पर्व की हार्दिक बधाइयाँ....

    ReplyDelete
  4. जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  5. बहुत खूब !!
    जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete
  6. कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  7. युद्ध के रथ पर-
    अर्जुन का संबल बने...
    ज्ञान मार्ग पर -
    प्रखर चमकता चक्र दिखे ...
    देते थे उपदेश जगत उत्थान का ..
    रखते जब-जब ध्यान जीवन-मान का...
    ऐसे समय भी रहूँ तुम्हारे संग.
    पोर-पोर ज्ञान में डूबी हुई ....
    मैं तुम्हारी गीता बनू..
    ..
    दीदी माखनचोर से कोई भक्ति मांगता है कोई प्रेम कोई ऐश्वर्य ...आपने गीता होने का अद्भभुत वर माँगा है ! माधव आपको प्राप्त हों यही शुभकामना है दीदी...उनके जन्म दिन पर आपको बधाई और प्रणाम.

    ReplyDelete
  8. भगवान् श्री कृष्ण जन्माष्टमी की सादर बधाइयां....

    ReplyDelete
  9. पोर-पोर ज्ञान में डूबी हुई ....
    मैं तुम्हारी गीता बनू....!!!!!!
    uske baad shesh kya , atirek kya

    ReplyDelete
  10. बहुत ही अद्भुत रचना अनुपमा जी आपकी ही तरह अनुपम, विलक्षण ! बहुत बहुत अच्छी लगी ! श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के पावन अवसर पर अनेकानेक शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  11. सुँदर भाव . जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete
  12. श्री कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  13. जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनायें.
    आपने आध्यात्मिक अभिलाषा बड़े सुन्दर ढंग से प्रस्तुत की है

    ReplyDelete
  14. आपको जन्माष्टमी की ढेर सारी बधाइयाँ... शुभकामनायें

    ReplyDelete
  15. आपके पोस्ट पर पहली बार आया हूँ। पोस्ट अच्छा लगा आप भी मेरे पोस्ट पर आते रहिएगा ।
    धन्यवाद।

    ReplyDelete
  16. धन्यवाद अपने विचार देने के लिए....कई बार अपने लिखे हुए पर बहुत यकीन नहीं होता ....जब मन के भाव निकल गए पन्नो में ...थोड़ी उथल पुथल मन में रहती ही है ....पता नहीं जो काव्य बन पड़ा है ...वो मन के भाव स्पष्ट कर पाया है या नहीं ....इसलिए आप सभी की टिप्पणी बहुत मायने रखती है ....!!कृपया कविता पसंद हो या न हो अपने विचार ज़रूर दें ....आलोचना तो नयी राह दिखाती है और बहुत कुछ सिखाती है ...!!

    ReplyDelete
  17. सीता और गीता के बीच सिमटी भारत की जीवन शैली।

    ReplyDelete
  18. मैं तुम्हारी बस एक बूँद गीता बनू....!!!!!!
    bus ek boond gita.....usi se tr jayungi main.....bahaut badhiya rachna

    ReplyDelete
  19. ऐसे समय रहूँ तुम्हारे संग.
    तुम्हारे अपार ज्ञान रुपी सागर में से..
    पोर-पोर ज्ञान में डूबी हुई ....
    मैं तुम्हारी बस एक बूँद गीता बनू....!bahut hi sunder hamesha ki tarah sunder shabdon ka chayan liye hue shhandaar abhi byakti.badhaai aapko.

    ReplyDelete
  20. बहुत ही अद्भुत रचना अनुपमा जी...श्री कृष्ण जन्माष्टमी की बधाइयाँ !

    ReplyDelete
  21. शब्दों की खूबसूरत अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  22. वाह! अनुपमा जी जितनी तारीफ़ की जाये कम है। बहुत ही सुन्दर। जय श्री कृष्णा...

    ReplyDelete
  23. शक्तिदायक प्रभु से बढ़कर कौन!
    सुन्दर भावाभिव्यक्ति!

    ReplyDelete
  24. aapke blog ka phir ek baar avlokan karne par mehsoos kiya ki aapki har rachna bahut kuchh kehne me samarth hai,achchhi abhivaykti se apni aur aakarshit karne men saksham hain,badhai

    ReplyDelete
  25. आपकी भाव भक्ति पूर्ण प्रस्तुति के लिए बहुत बहुत आभार,अनुपमा जी.

    ......अब रखो लाज गिरधारी ऐसी के हम सब मिल-जुल ...प्रेम बाँटते चलें ...ज्ञान बांटते चलें...!!!!!!!!

    वाह! अति उत्तम भाव.

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!