नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

26 September, 2020

आज भी .. ...(अनुगूंज ) 25

आज भी .. ...
आज भी सूर्यांश की ऊष्मा  ने 
अभिनव मन  के कपाट खोले  ,
देकर ओजस्विता
किरणें चहुँ दिस  ,
रस अमृत घोलें  ..!!
आज भी चढ़ती धूप  सुनहरी ,
भेद जिया के खोले ,
नीम की डार पर आज भी
गौरैया की चहकन
चहक चहक  बोले ,
आज भी साँझ की पतियाँ 
लाई है संदेसा
 पिया आवन का , 
आज भी
खिलखिलाती है ज़िन्दगी 
गुनकर जो रंग ,
बुनकर सा हृदय आज भी 
बुन लेता है
अभिरामिक शब्दों को
आमंजु अभिधा में ऐसे ,
जैसे तुम्हारी कविता
मेरे हृदय  में स्थापित होती है ,
अनुश्रुति सी ,अपने
अथक प्रयत्न के उपरान्त !!
हाँ ..... आज भी ..!!


अनुपमा त्रिपाठी
 "सुकृति "

17 comments:

  1. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" रविवार 27 सितम्बर 2020 को साझा की गयी है.............. पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल रविवार (27-09-2020) को    "स्वच्छ भारत! समृद्ध भारत!!"    (चर्चा अंक-3837)    पर भी होगी। 
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।  
    सादर...! 
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'  
    --

    ReplyDelete
  3. सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  4. लम्बे समयन्तराल के बाद एक सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  5. सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  6. नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि के लिंक की चर्चा सोमवार 28 सितंबर 2020 को "बेटी दिवस" (चर्चा अंक-3838) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्त्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाए।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    --
    -रवीन्द्र सिंह यादव

    ReplyDelete
  7. सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  8. बहुत ही सुन्दर सृजन
    वाह!!!

    ReplyDelete
  9. बहुत ही सुंदर भावों के साथ एक सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  11. सुन्दर रचनाओं से परिपूर्ण ब्लॉग - - नमन सह।

    ReplyDelete
  12. आदरणीया अनुपमा त्रिपाठी सुकीर्ति जी, नमस्ते👏! आपकी अतुकांत कविता बहुत अच्छी है। बगुत गहरे अर्थ हैं। "आज भी साँझ की पतियाँ
    लाई है संदेसा
    पिया आवन का!"
    बहुत सुंदर पंक्तियाँ!साधुवाद!--ब्रजेन्द्रनाथ
    मैंने आपका ब्लॉग अपने रीडिंग लिस्ट में डाल दिया है। कृपया मेरे ब्लॉग "marmagyanet.blogspot.com" अवश्य विजिट करें और अपने बहुमूल्य विचारों से अवगत कराएं।
    आप अमेज़ॉन किंडल के इस लिंक पर जाकर मेरे कविता संग्रह "कौंध" को डाउनलोड कर पढ़ें।
    https://amzn.to/2KdRnSP
    आप मेरे यूट्यूब चैनल के इस लिंक पर मेरी कविता का पाठ मेरी आवाज में सुनें। मेरे चैनल को सब्सक्राइब करें, यह बिल्कुल फ्री है।
    https://youtu.be/Q2FH1E7SLYc
    इस लिंक पर कहानी "तुम्हारे झूठ से मुझे प्यार है" का पाठ सुनें: https://youtu.be/7J3d_lg8PME
    सादर!--ब्रजेन्द्रनाथ

    ReplyDelete
  13. आज भी आपकी लेखनी में वही जादू है... आज भी, बहुत दिनों बाद आपको पढ़ना अच्छा लगा, शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  14. हांँ ! आज भी अनुश्रुति सी ... हृदय में स्थापित होती हुई ।

    ReplyDelete
  15. वाह! बहुत सुन्दर रचना और कमाल के भाव.

    ReplyDelete
  16. भी .. ...
    आज भी सूर्यांश की ऊष्मा ने
    अभिनव मन के कपाट खोले ,
    देकर ओजस्विता
    किरणें चहुँ दिस ,
    रस अमृत घोलें ..!!,,,,, बहुत सुंदर रचना ।

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!