नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

18 September, 2021

चरैवेति .....चरैवेति .....!!


दिशा बोध 

हृदय  के भीतर के 

सूक्ष्म दिव्य प्रकाश की  परिणति है |

कर्म ही प्रकृति है ,

चलते रहना ही नियति है .....!!

चरैवेति .....चरैवेति .....!!


अनुपमा त्रिपाठी 

  ''सुकृति "

14 comments:

  1. आप्त वाणी सम ।

    ReplyDelete
  2. बुरा ना मानियेगा चरैवेति से मुझे महसूस हो रहा है मुझे चरना है| आप अपनी जगह पर सही है| मैं अपनी सोच के लिए कुछ नहीं ना कर सकता :)

    ReplyDelete
  3. जगत, संसार, आत्मा - सब शब्दों की धातु गति से सम्बन्धित है। सुन्दर सत्य।

    ReplyDelete
  4. सत्य .... चलना ही नियति है ।

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  6. ठीक कहा अनुपमा जी आपने।

    ReplyDelete
  7. सादर नमस्कार,
    आपकी प्रविष्टि् की चर्चा शुक्रवार (24-09-2021) को "तुम रजनी के चाँद बनोगे ? या दिन के मार्त्तण्ड प्रखर ?" (चर्चा अंक- 4197) पर होगी। चर्चा में आप सादर आमंत्रित हैं।
    धन्यवाद सहित।

    "मीना भारद्वाज"

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर सस्नेह धन्यवाद मीना जी !!

      Delete
  8. सही कहा आपने आदरणीय दी चलते रहना ही नियति है।
    बहुत ही सुंदर सृजन।
    सादर

    ReplyDelete
  9. कर्म ही प्रकृति है ,

    चलते रहना ही नियति है .....!!

    बस यही सत्य है....सुंदर सृजन,सादर नमन आपको

    ReplyDelete
  10. कम शब्दों में सारगर्भित दर्शन।
    स्थापित शब्दों पर सुंदर विवेचना।

    ReplyDelete
  11. कर्म ही प्रकृति है ,

    चलते रहना ही नियति है .....
    बहुत सटीक एवं सारगर्भित।
    वाह!!!

    ReplyDelete
  12. सत्य है कर्म ही नियति है।
    सकारात्मक सृजन प्रिय अनुपमा जी
    सस्नेह।

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!