नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

23 September, 2021

निकेत बनी हृदयावलि …!!

गगन से अविरल बरसते हुए

मेघों में ,

मन के भाव की

ललित पुलकावलि ,

जब जब नित नवल 

अलंकृत होती गई ,

बूँदन झरती आई ,

तब तब वो

अलौकिक शब्द

बने मुक्ताभ ,

निकेत बनी हृदयावलि …!!


अनुपमा त्रिपाठी 

     सुकृति

9 comments:

  1. बरसते मेघ की हृदयावलि
    बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  2. वर्षा का सुंदर चित्रण

    ReplyDelete
  3. सुंदर रचना है यह आपकी। कभी-कभी बरसती बूंदों के साथ एक हो जाने वाली हृदयावलि अश्रुपूरित भी होती है।

    ReplyDelete
  4. सुंदर,मनभावन सृजन,सादर नमन आपको

    ReplyDelete
  5. जब जब नित नवल 

    अलंकृत होती गई ,

    बूँदन झरती आई ,

    बहुत खूबसूरत रचना

    ReplyDelete
  6. नभ का न जाने कौन सा संदेश लाते हैं मेघ।

    ReplyDelete
  7. बहुत खूबसूरत

    ReplyDelete
  8. वर्षा ऋतु का सुंदर चित्रण । छटा बिखेरते शब्द ।

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!