नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

01 July, 2022

उमंग भरा मन ,जीवन !!


उमड़ते हुए भावों की 
वीथी से ,
चुनते हुए शब्दकार के -

शब्द की प्रतीति से ,

रचना से रचयिता तक ,

विलक्षण ,

खिलते कुसुमों से अनुराग लिए ,

पल पल बढ़ता है मन ,

गुनते हुए क्षण क्षण ,

अभिनव  आरोहण ,

बुनते हुए रंग भरे कात से ,

रंग भरा ,

उमंग भरा मन ,जीवन !!!

अनुपमा त्रिपाठी

   "सुकृति"

14 comments:

  1. ये उमंग भर में भरा रहे और भावों की वीथी से शब्दों को चुन कर आप कविता कहती रहें ।
    सुंदर कृति ।।

    ReplyDelete
  2. सुंदर रचना

    ReplyDelete
  3. मन में जगी उमंग और उत्साह ही जीवन को अर्थ देते हैं! सुंदर रचना !!

    ReplyDelete
  4. सादर नमस्कार ,

    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (3-7-22) को "प्रेम और तर्क"( चर्चा अंक 4479) पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है,आपकी उपस्थिति मंच की शोभा बढ़ायेगी।
    ------------
    कामिनी सिन्हा

    ReplyDelete
    Replies
    1. नमस्कार कामिनी जी !!
      आपका बहुत बहुत धन्यवाद आपने मेरी रचना को रविवार की चर्चा में स्थान दिया !!

      Delete
  5. लिखना भी खिलने जैसा होता है, अब जाना । कोमल अनुभूति सी कविता । अच्छा लगा ।

    ReplyDelete
  6. प्रकृति में पुष्पित नवल पुष्प सी सुन्दर कविता ।

    ReplyDelete
  7. बहुत सुंदर भावों की अभिव्यक्ति।
    सादर

    ReplyDelete
  8. मन के भावों बखूबी पिरोया है आपने इस सुंदर रचना में ।

    ReplyDelete
  9. सुन्दर सृजन।

    ReplyDelete
  10. सुन्दर सृजन।

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर रचना, बधाई अनुपमा जी

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!