नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

23 July, 2021

खुशनुमा ख़्वाहिश हूँ मैं !!




पवन झखोरे से लिपटी हुई 

एक सुरमई  चाह हूँ मैं 

लहराते आँचल में सिमटी हुई 

ममता हूँ मैं 


रात के काजल में 

आँखों का वो एक पाक सपन 

तेरी खुशबू से नहाई हुई 

चंपा हूँ मैं 


आँख से कहती हुई ,

बन बन में भटकती हुई 

तेरे दीदार की हर पल में बसी 

खुशनुमा ख़्वाहिश हूँ मैं !!



अनुपमा त्रिपाठी 

''सुकृति "

19 comments:

  1. बहुत सुंदर अहसासों का सृजन

    ReplyDelete
  2. जी नमस्ते ,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार(२४-०७-२०२१) को
    'खुशनुमा ख़्वाहिश हूँ मैं !!'(चर्चा अंक-४१३५)
    पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है।
    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर नमस्ते अनीता जी ,
      ह्रदय से धन्यवाद मेरी रचना के चयन हेतु !!

      Delete
  3. एक उमंग भरी प्यारी सी सुंदर रचना

    ReplyDelete
  4. आँख से कहती हुई ,

    बन बन में भटकती हुई

    तेरे दीदार की हर पल में बसी

    खुशनुमा ख़्वाहिश हूँ मैं !!

    बहुत ही सुंदर सृजन

    ReplyDelete
  5. भीनी-भीनी खुशबू-सी ....

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर पंक्तियाँ।

    ReplyDelete
  7. खूबसूरत अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  8. आँख से कहती हुई ,

    बन बन में भटकती हुई

    तेरे दीदार की हर पल में बसी

    खुशनुमा ख़्वाहिश हूँ मै बहुत ही लाजवाब मनभावन सृजन
    वाह!!!


    ReplyDelete
  9. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज रविवार 24 जुलाई 2021 शाम 5.00 बजे साझा की गई है.... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर हार्दिक धन्यवाद आपका!!

      Delete
  10. बहुत खूबसूरत भाव संयोजन ।
    खुशनुमा ख्वाहिश बनी रहना ।

    ReplyDelete
  11. बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  12. जज़्बातों से लबरेज़ अहसास!

    ReplyDelete
  13. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  14. बहुत ही सुंदरता से सजे खूबसूरत अहसास ...

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!