नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!
नमस्कार ....!!आपका स्वागत है ....!!

30 August, 2021

चेतना अपरिमित !!

Must Chant Mantras To Impress Lord Krishna

चेतना अपरिमित 

कृष्णा की बांसुरी भई 

गलियन गलियन 

कूल कूल कूजित ,

संग संग  

कोकिल के नव गान से ,

भ्रमर की नव राग से ,

ज्योतिर्मय आभा की हुलास से 

मयूर के उल्लास से 

राधिका  के अनुराग से 

सृष्टि पूरित  !!


अनुपमा त्रिपाठी 

  "सुकृति "

10 comments:

  1. सर्वं सुमधुरं कृष्णं

    ReplyDelete
  2. कृष्ण को समर्पित सुंदर भाव भरी रचना।

    ReplyDelete
  3. अत्यंत भावपूर्ण सृजन प्रिय अनुपमा जी।
    -----
    तेरी मुरली की तान पे
    सुध बुध बिसराने दे
    लगा अधर मुरलिया
    मोहे तू जग बिसराने दे।
    ----
    सस्नेह।

    ReplyDelete
  4. कृष्ण का भाव ही प्रेम है, अनुभूति है, प्राकृति है ...
    बहुत सुन्दर भावपूर्ण रचना ...

    ReplyDelete
  5. मन हुआ मुदित अपरिमित हुलास से । अति सुन्दर सुकृति ।

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर कृष्णा रचना

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर कृष्णा रचना

    ReplyDelete
  8. बाँसुरी के स्वर में इतनी विविध चेतनाओं का संचार है तभी तो सुनने वाला मोहित, भ्रमित होकर दीवाना होता है।
    सुंदर भाव सृजन।

    ReplyDelete
  9. वाह! कृष्णमयी रचना

    ReplyDelete

नमस्कार ...!!पढ़कर अपने विचार ज़रूर दें .....!!